भारत की वर्तमान स्थिति पर एक कविता : “पुरस्कार तो लौटेंगे ही”

भारत की वर्तमान स्थिति पर एक कविता :

हाल के दिनों में साहित्यकारों के द्वारा मोदी सरकार के विरोध में पुरस्कारों का लौटाया जाना चर्चा का एक बड़ा विषय बना हुआ है । देश की इस वर्तमान स्थिति पर एक कविता :

पुरस्कार तो लौटेंगे ही
अब गीता पढ़ने वाला पीएम जो मिला है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
अब राष्ट्रपति भवन में रोज़ा इफ़्तार के साथ नवरात्री का कन्या पूजन भी जो हो रहा है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
क्योंकि
पाकिस्तान में मोदी हाय हाय जो मचा हुआ है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
जो इस देश का पीएम जाकर अरब में मंदिर बनवा रहा है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
जो इस देश का पीएम विदेशों में भी भगवा धारण कर रहा है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
जो आज मोदी की वजह से विश्व योगा दिवस मना रहा है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
जो अब फिर से दूरदर्शन के लोगों में “सत्यम शिवम् सुन्दरम्” अंकित हो गया है।
.
.
पुरस्कार तो लौटेंगे ही
जो आज पूरे देश में गौहत्या रोकने की बात जो हो रही है।
.
.
इंतज़ार करिये।
अभी बहुत पुरस्कार लौटने हैं।
देश जाग जो रहा हैं

आपकी इस बारे में क्या राय है ? हमें अपने विचार नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में बताएं :

Comments

comments