लालू राज – भयावह अतीत, जूझता वर्तमान और अंधकारमय भविष्य

“मैं एक बिहारी हूँ”

कोई भी बिहारी इस बात को गर्व से कहे, शर्म से कहे या अफसोस जाहिर करते हुए कहे, इस बात को वो आजतक नही समझ पाए हैं और यकीन मानिये हमारी तरह और भी ऐसे असंख्य बिहारी हैं जो इसी असमंजस में रहते हैं। ऐसी बात नहीं है कि हमें अपनी मातृभूमि पर गर्व नहीं है। आप सभी की तरह हमें भी है, लेकिन जब भी ये बात आती है कि क्या हम उस राज्य के निवासी हैं जहाँ लालू प्रसाद यादव जैसे नेता का दो दशक से ज्यादा बोलबाला रहा है, तो हर खुददार बिहारी शर्मसार होता है। क्योंकि लोगों की हँसती निगाहें ये पूछती हैं, जब बिहार देश को सबसे ज्यादा IAS/IPS देता है फिर ऐसे राज्य में एक घटिया व्यक्ति दो दशक कैसे सरकार चला सकता है। इतने पढ़े लिखे लोग अपने लिए महज नौंवी पास उपमुख्यमंत्री कैसे चुन सकते हैं।

4 दशक से ज्यादा यहाँ कांग्रेस ने राज किया और दो दशक से ज्यादा लालू परिवार ने। इस राज्य ने विकास के अलावा राजनीती के हर गंदे पहलुओं को अनुभव किया है और आज भी झेल रहा है। जयप्रकाश आंदोलन से निकले बाहुबली नेता लालू प्रसाद यादव ने बिहार में अपनी गन्दी राजनीती और गुंडागर्दी के बदौलत बिहार को गरीबी, असाक्षरता, भुखमरी और बेरोजगारी जैसी समस्या में झोंककर हमेशा से बिहार को पिछड़े राज्यों की श्रेणी में सर्वोच्च स्थान पर रखे हुआ है।

लालू ने अपने राजनीतिक सफ़र में हमेशा इस बात का ध्यान रखा है कि बिहार के दलितों का विकास ना होने पाए, गरीब हमेशा गरीब बने रहे और साक्षरता लोगों की पहुँच से दूर रहे। बिहार राज्य में सवर्ण को उखाड़ फेंकने के लिए लालू ने भूराबाल (भूमिहार, राजपूत, ब्राह्मण, लाला) साफ करो का नारा दे दिया था। ये वो दौर था जब कश्मीर से पंडितों को मारकर भगा दिया था और बिहार के सवर्णो को इसके उदाहरण दिए जाते थे कि अगर उन्होंने लालू के खिलाफ कोई कदम उठाया तो उनके साथ भी वैसा ही हश्र होगा। 90 का दशक बिहार के ब्यूरोक्रेट्स, इंजीनियर्स और व्यवसाइयों के लिए दहशत का दौर रहा। हफ़्ता वसूली, अपहरण और क़त्ल लालू के संरक्षण में ख़ूब फला फूला और इसका प्रभाव राबड़ी देवी शासन काल तक रहा।

हमारा बचपन लालू का जंगलराज देखते हुए बीता है। इसलिए आज जब कोई बाहरी सिर्फ मोदी विरोध में लालू का समर्थन करता है, तो जितनी नफरत हम अपनी वर्तमान जंगलराज वाले सरकार से करते हैं, उससे ज्यादा घिनौना उसका व्यक्तित्व लगता है। आप बिहार की दुर्दशा के प्रत्यक्षदर्शी नहीं रहें हैं, तो कम से कम अपने तथ्यों को दुरुस्त कर लीजिए। अपने मतभेद को अहं का काला चश्मा पहनाकर बस मोदी विरोध में लालू का समर्थन कर रहें हैं, तो किसी भी सम्मानित और खुददार बिहारी के लिए आप भी उतने ही गिरे हुए हैं जितना की लालू प्रसाद यादव।

90 के दशक से लेकर 21वी सदी के आगामी कई साल तक बिहार के गाँव में बिजली की तारें तो थी, लेकिन बिजली हमने अपने विद्यालय जीवन में कभी नहीं देखा। हमने अपनी प्राथमिक शिक्षा लालू जी की मेहरबानी से उनके चुनाव चिन्ह लालटेन की रोशनी में पूरी की। उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी थी बिहार को पिछड़ा बनाए रखने में और मुख्य तौर पर वो सफल भी हुए हैं। यही कारण है आज भी बिहार अधिकतर नौजवान सुबह सुबह चौक चौराहे पर इकट्ठा होकर ताश खेलते हैं और लालू जी का गुणगान करते हैं। सड़कों की दुर्दशा तो पूछिए ही मत। यहाँ जिले की 17 किलोमीटर की दूरी तय करने में 4 घंटे लग जाते हैं। राजधानी से 125 km के दायरे में रहने वाले लोग भी राजधानी हवाई अड्डा शाम की फ्लाइट से कहीं जाने के लिए सुबह ही निकलते हैं और अगर सुबह की फ्लाइट हो तो एक दिन पहले ही निकलना पड़ता है । इस तरह लालू की मेहरबानी से बिहार की सड़के हेमा मालिनी के गाल की तरह तो नहीं, हाँ, गोगा कपूर के गाल की तरह सदियों से बनी हुई है।

अपने बच्चों को भुखमरी और असाक्षरता में झोंक कर लालू के अनपढ़ बेटों को चुनने का कारनामा सिर्फ बिहार में हो सकता है। चारा घोटाले का आरोप साबित होने के बावजूद अपनी अनपढ़ पत्नी राबड़ी देवी को बिहार की मुख्यमंत्री बनाकर जेल की हवा खा रहे लालू ने जेल से सरकार चला कर यह साबित कर दिया कि बिहार में वो कहीं भी रहे और किसी भी हाल में रहे सरकार उन्ही की चलेगी। कमाल की बात ये है कि इतना अपार धन होने के बावजूद इनके अनपढ़ पुत्र तेजस्वी यादव जो वर्तमान में उपमुख्यमंत्री हैं, कहते हैं कि वो पिछड़े और गरीब हैं इसलिए उनको निशाना बनाया जा रहा है और CBI को जबरदस्ती उनके पीछे लगा दिया है सरकार ने। मतलब जिस तरह की फूहड़ बातों से लालू जनता को गुमराह करते आये हैं उसी प्रकार के घटिया हथकंडे अब इनके बेटे अपना रहे हैं जनता को गुमराह करने के लिए।

लोगों को चाहिए वो लालू परिवार के हर सवाल पर चुप रहने या आश्चर्य करने के बजाय उनसे उल्टा सवाल पूछे:

  • मीसा भारती अगर ये कह रही है कि उनके फार्म हाउस पर छापा क्यों पड़ा तो लोग उल्टा सवाल करें कि मीसा भारती जैसों के पास फार्महाउस कैसे है? क्या डॉक्टरी से उनकी आय इतनी है जिससे कि वो करोडो की जमीन और फार्म हाउस खरीद सके?
  • तेजस्वी यादव अगर ये कह रहा है कि 10 साल पुराने मामले में पूछताछ क्यों हो रही है, उस समय तो उनकी मूँछे भी नहीं उगी थी तो लोगो को सरकार से सवाल करना चाहिए कि यह तफ्तीश दस साल तक क्यों नही हुई? इन्हें अब तक जेल क्यों नहीं भेजा गया?
  • अगर तेज प्रताप और तेजस्वी ये कहते है कि उनके खिलाफ CBI का छापा बदले की भावना से प्रेरित है तो उनसे यह सवाल करना चाहिए कि 12वी और 9वी पास इन भाइयों की इतनी आय कहाँ से हुई?
  • अगर लालू ये कह रहे है कि उनके खिलाफ चल रहे मामले विपक्ष की साजिश है, तो यह सवाल उठना चाहिए कि क्या विपक्ष की एकता का आधार और न्यायिक प्रक्रिया परस्पर विरोधी संकल्पनाएं हैं? विपक्षी राजनीती का कवच एक भ्रष्टाचारी को क्यों बचाये?
  • मीडिया के इस रिपोर्ट पर कि महागठबंधन बना रहेगा या नहीं? इसपर भी सवाल उठना चाहिए कि क्या अपराधी और आरोपियों को सत्ता में बने रहने का कोई हक भी है?
  • सवाल यह नहीं है कि घोटालों की जांच फासीवाद है या नहीं ? सवाल यह है कि चोरी और भ्रष्टाचार के कीचड़ में सने राजनेता क्या अपने ऊपर समाजवाद और धर्मनिर्पेक्षता का इत्र छिड़क कर पवित्र हो सकते हैं ?

समस्या यह है कि ऐसे सवाल पूछने वालों को बिहार में या तो उठवा दिया जाता है या फिर पंगु और अपाहिज बनाकर ऐसी जगह फेंक दिया जाता है जहाँ से वो सोचकर भी लालू परिवार पर उंगली नहीं उठा सके। आखिर लालू परिवार पिछड़ों और प्रतिमनुवाद के नाम पर लूट खसोट का नंगा खेल कब तक करते रहेंगे? इनसे निपटने का एक ही तरीका है और वो है लोगों का संगठित विरोध और ससक्त कानून जो इस परिवार के घोटालो पर ऐसा सिकंजा कसे जिससे कम से कम लालू परिवार 20 साल तक सक्रिय राजनीती से दूर रहे। इनकी अवैध संपत्ति को सरकार अपने कब्जे में तुरंत ले और बिहार के लिए विकास का एक नया रास्ता सुनिश्चित करे जिसके लिए बिहार की जनता का दृढ निश्चय और सहयोग वांछनीय है।

@01karn

Comments

comments