हास्य कलाकार एवं अभिनेता कपिल शर्मा को खुला पत्र

Kapil Sharma Exposed !! BMC Reveals the Reality Behind Kapil's Tweet to PM Modi !! Read the Truth...

प्रिय भाई कपिल शर्मा जी,

सर्वप्रथम आपको हमें अपने साफ सुथरे हास्य कला के जरिए हँसाते रहने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

आपने भले ही रिश्वत माँगे जाने पर ज़ाहिर की हुई अपनी प्रतिक्रिया से कई चाहने वालों का दिल दुखाया हो, लेकिन मुझे लगता है आपने कोई गलती नहीं की है। आज आप लोकप्रियता की शीर्ष पर हैं और अगर आपकी बात सिस्टम आसानी से सुन सकती है तो धमाके से ही सही, सुनाने में कोई हर्ज नहीं है। यह बात अलग है कि ट्विटर पर जय माता दी वाले ट्वीट में भी प्रधानमंत्री को टैग करने वालों ने आपको ज्ञान दिए होंगे की शिकायत सीधे प्रधानमंत्री से क्यों किया। आपको संभवतः कड़े और अभद्र शब्द भी सुनने पड़े होंगे लेकिन कोई बात नहीं, वर्चुअल दुनिया का यही सच है और आप जैसी बड़ी हस्तियों को अब तक तो इसकी शायद आदत सी हो गयी होगी।

ये विचारधाराओं में फर्क हो सकता है लेकिन अगर आपने किसी राजनैतिक प्रभाव में भी सीधे प्रधानमंत्री जी से शिकायत की है तो भी कोई बात नहीं, आपको पूरा हक है अपने लिए सोचने का। भ्रष्टाचार किस तरह हमारे सिस्टम में समाई हुई है इस बात को तो बाहर आना ही चाहिए। आपका क़दम साहसिक है और इसके लिए मैं बिना किसी राजनीतिक चश्मे से देखते हुए आपको धन्यवाद देना चाहूँगा।

आपकी करोड़ों की तनख्वाह में से 5 लाख की रिश्वत माँगे जाने पर आपने यह कदम उठाया इससे एक और बात जागीर होती है कि मेहनत की कमाई कोई यूँ ही नहीं बहाता। ज़रा उन कर्मचारियों के बारे में सोचिए जो अपनी ज़िंदगी भर की मेहनत के बाद पाए 4-5 लाख और 2-4 हज़ार के पेन्शन में से लाखों का बड़ा हिस्सा रिश्वत देने में गँवा देते हैं। उनकी हस्ती इतनी छोटी होती है कि जिस सरकार या पार्टी को वो समर्थन देते हैं उनके छोटे-मोटे नेता तक भी उनकी आवाज नहीं पहुँच पाती है। भ्रष्ट तंत्र से उनके संघर्ष का मैं साक्षी हूँ और मैंने हमेशा सच के रास्ते पर चलने वाले आदर्शवादियों को भी इस भ्रष्टाचार की आग में जलते हुए देखा है। अगर आप अपने हर एपिसोड में एक सामान्य व्यक्ति को बुलाकर उसके संघर्ष को 5 मिनट के लिए दिखाएँगे तो कई लोगों की सचाई सामने आएगी और उनको इंसाफ मिलने में सहायता मिलेगी।

मैं आपकी तकलीफ को समझ रहा हूँ लेकिन दूसरे पहलू पर भी आपसे कुछ कहना चाहूँगा। जिस तरह आज आपने लोकप्रियता के शीर्ष पर रहते हुए जो जबरदस्ती मीडिया में सुर्ख़ियाँ बटोरी है वो सही नहीं था। आज देश में ऐसे कई अराजक व्यक्ति, बिकाऊ मीडिया और दिन-रात ड्रामा करने वाली पार्टियाँ हैं जो इस तरह के अवसर का इंतज़ार करते रहते हैं। इसलिए आपको अपनी शिकायत के शब्द ऐसे चुनने चाहिए थे जो तंज कम लगे और आपकी तकलीफ़ों को बेहतर तरीके से प्रस्तुत कर सके। आपने जिस तरह खिन्न भाव से हमारे प्रधानमंत्री जी से अपनी तकलीफ़ों की शिकायत की वो बिलकुल सही नहीं था और इसलिए मुझे लगता है कि आपके संघर्ष की प्रतिक्रियायों को अच्छा या बुरा बनाना आपके हाथ में था। अच्छे दिन ख़ुद चलकर नहीं आएँगे, बल्कि हमारी अच्छी सोच और सकारात्मक विचारधाराओं का नतीजा अच्छे दिन लेकर आएगा। अच्छे दिन एक सोच है और उसे सच में बदलने के लिए आप जैसे लोगों का सहयोग देश के प्रधानमंत्री को भी अपेक्षित होगा। आपने अपने चाहने वालों को जाने अनजाने ही सही लेकिन दो खेमों में जरूर बाँट दिया। सुबह आपकी शिकायत पढ़ी तो लगा कि शायद आप इसकी शिकायत शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे जी या फिर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री जी से भी कर सकते थे लेकिन आपने सीधे प्रधानमंत्री जी से किया तो भी कोई बात नहीं। लेकिन शाम तक तो आपके रिश्वत देने का पूरा इतिहास भूगोल सामने आ गया। तब मुझे लगा वाक़ई यही अच्छे दिन हैं। सैकरों और हज़ारों में कमाने वाले लोग ही रिश्वत की मार क्यों सहे, करोड़ों में कमाने वाले को भी दर्द होना चाहिए।

अगर आप 15 करोड़ सालाना आयकर दे रहें हैं तो आपकी कमाई भी सालाना 70-75 करोड़ होगी। फिर आपको अपने आयकर चुकाने की तकलीफ कतई नहीं होनी चाहिए। आपको रिश्वत देना ही नहीं चाहिए था, क्योंकि आप जैसी बड़ी हस्ती को अगर रिश्वत देना पड़ जाए तो ऐसा लगता है कि वहाँ कोई ग़लत काम हो रहा था जिसे छुपाने के लिए आपने रिश्वत दी थी। अगर आपने ये सहारा लिया तो फ़िर खुले तौर पर भ्रष्ट अधिकारियो का नाम लेकर उनका पर्दाफ़ाश भी करना चाहिए था, साँच को आँच क्या। महानगरपालिका की मानें तो आपने अवैध निर्माण के लिए रिश्वत दिए, और आपकी मानें तो आपने अपने दफ़्तर निर्माण की मंजूरी पाने के लिए रिश्वत दिए। आम जनता के बीच दोनो ही गलत नजर आ रही है क्योंकि रिश्वत देना भी रिश्वत को बढ़ावा देना है और यहाँ पर आपके ऊपर भी आपराधिक मामला बनता है। पर मसला यहाँ खत्म होने से रहा, क्योंकि सोशल मीडिया तो बाल का खाल निकाल देती है वो आपका पीछा ऐसे ही नहीं छोड़ेगी और यही मेरे लिए अच्छे दिन के संकेत हैं कि सच्चाई को कुरेद कर सामने रख दिया जाता है।

उम्मीद है आप अपनी लोकप्रियता के साथ अपनी ज़िम्मेदारियों को भी निभाएँगे और अच्छे शब्दों से अपने संघर्ष को सही विभाग में पहुँचाएँगे। आपका काम तब भी इतनी ही आसानी से होगा क्योंकि आम जनता और एक सिलेब्रिटी के बीच की दूरी आप तय कर चुके हैं और आपसे गलत काम करवाने की हिम्मत किसी भी विभाग का अधिकारी बिलकुल नहीं करेगा।

भारत माता की जय

@01karn

Comments

comments