गेहलोत राज में शोभा यात्रा से लौट रहे राम भक्तों पर हुआ पथराव। जोधपुर के सूरसागर में हुए दंगे

रामनवमी शोभायात्रा के बाद शनिवार शाम वापस सूरसागर की तरफ लौट रहे कुछ युवक नारे लगाते निकले तो वहां कुछ शरारती तत्वों ने उन पर पथराव कर दिया। कुछ ही देर में जबरदस्त तनाव की स्थिति बन गई और दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर पथराव किया। उत्पाती भीड़ ने काफी देर पथराव किया, लेकिन पुलिसकर्मी कम संख्या में होने के चलते वे पत्थरबाजों पर काबू नहीं कर पाए। माहौल बिगड़ने की सूचना पर डीसीपी (वेस्ट) मोनिका सैन, एडीसीपी (वेस्ट) कैलाशदान रतनू सहित कई अधिकारी आरएसी व अतिरिक्त जाब्ते के साथ यहां पहुंचे, लेकिन पथराव जारी रहा। इसमें एक एसीपी के ड्राइवर रजनीश कुमार सहित कुछ अन्य लोग भी घायल हो गए। पुलिस की एक गाड़ी के शीशे भी पथराव में टूट गए।

बताया जा रहा है कि स्थानीय पुलिस ने हल्का बल प्रयोग भी किया. इसके अलावा उपद्रवियों पर आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए. वैसे स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस की लापरवाही के कारण यह घटना हुई. पुलिस के आलाधिकारी अगर सचेत रहते तो घटना को रोका जा सकता था. पुलिस की खुफिया तंत्र भी पूरी फेल नजर आई. तनाव के बावजूद इलाके में अतिरिक्त पुलिस जाब्ता तैनात किया गया.

स्थिति बिगड़ते देख भाजपा प्रत्याशी व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत तुरंत मौके पर पहुंच गए। यही नहीं शेखावत पुलिस कार्रवाई के विरोध में थाने के बाहर लोगों के साथ धरने पर भी बैठ गए। इस घटना से जोधपुर के लोगों में गेहलोत सरकार के खिलाफ विरोध बढ़ गया है साथ ही मौजूदा सांसद गजेंद्र शेखावत की जीत अब निश्चित मानी जा रही है । 

इन सब के बीच शहर में अफवाहों का दौर भी जारी था. इसके अलावा पुलिस अधिकारियों को पथराव की भी शिकायतें मिल रही थी.

Comments

comments