चुनावों के कुछ दिन पहले कांग्रेस के खेमे में खलबली! कांग्रेस के आंतरिक सर्वे दिखा रहे भाजपा को बढ़त ?

राजस्थान विधानसभा सभा चुनावों को बस कुछ ही दिन बचे हैं और कयासों का माहौल अपने चरम पर है। हर कोई अपने हिसाब से परिणामों का अंदाजा लगा रहा है। इसी बीच गुप्त सूत्रों के हवाले से खबर है कि कांग्रेस का एक अंदरूनी सर्वे लीक हो गया है। चौकाने वाली बात है कि इस सर्वे के मुताबिक भाजपा राजस्थान चुनाव जीत सकती है। यह सर्वे व्हाट्स ऐप पर वायरल हो रहा है।

दरअसल बात यह है कि सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस ने इस साल के बीच से कई अंदरूनी सर्वे करवाए। शुरू शुरू में सर्वे के अनुसार कांग्रेस जीत रही थी, पर जैसे जैसे दीन गुजरते गये वैसे-वैसे खेल बदलता गया। अब सूरत ए हाल यह है कि २८ नवम्बर को किए गए सर्वे के मुताबिक भाजपा १३५ आसन जीत सकती है राजस्थान में जबकि कांग्रेस महज ६० आसनों पर अटक जाएगी।

आइए देखते हैं कांग्रेस के तथाकथित अंदरूनी सर्वे ने कब कब क्या क्या कहा।

> अगस्त-2018
Congress १३५, BJP ५०

> अक्टूबर-2018
Congress १२५ , BJP ६५

>पहला नवंबर-2018
Congress १०५, BJP ९०

> २८ नवंबर-2018
Congress ८०, BJP ११०

सर्वे आगे जाकर कहता है कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो कांग्रेस महज ५० आसन पर अटक सकती है जबकि भाजपा १४६ आसन तक ला सकता है। सूत्रों के मुताबिक, ऐसे खबरों से कांग्रेस के नेता खासे परेशान चल रहे हैं। हालांकि यह भी बता दें कि कांग्रेस ने अब तक ऐसे किसी सर्वे की पुष्टि नहीं की है और अगर ये सच है तो शायद करेंगे भी नही

दूसरी तरफ, भाजपा के यहां आलम कुछ अलग है। माना जा रहा है कि भाजपा के अंदरूनी सर्वे में भारी बहुमत का अंदाजा लगाया जा रहा है, जिसके चलते उनके नेता काफ़ी निश्चिंत और सहज नजर आ रहे हैं।
वहीं सट्टे बाजार में भी कयासों का माहौल है और अंदरूनी सर्वे की तरह यहां भी भाजपा आगे चल रही है। आइए जानते हैं अलग अलग सट्टा बाजारों का क्या अंदाजा है।

जयपुर सट्टा बाजार:
भाजपा- ११५-११९
कांग्रेस- ६५-६८

शेखावाटी सट्टा बाजार:
भाजपा- १०३-१०५
कांग्रेस- ५४-५६

राजकोट सट्टा बाजार:
भाजपा- १०५-१०७
कांग्रेस- ६१-६३

कलकत्ता सट्टा बाजार:
भाजपा- ११२-११४
कांग्रेस- ५७-५९

ऐसे ही दूसरे सट्टा बाजारों में भी भाजपा को १०५ या उससे अधिक आसन मिलते हूए दिख रहे हैं। गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा मे बहुमत का आंकड़ा १०१ है।

भाजपा अपने जीत के लिए पूरी आत्मविश्वासी लग रही है। सूत्रों के हवाले खबर यह भी है कि विकास और राष्ट्रवाद के मुद्दे पर चलते हुए राजस्थान भाजपा में एक स्थिरता का माहौल है। जबकि राजस्थान में कांग्रेस अब तक अपने अंदरूनी क्लेशों से ही नहीं उभर पाई है। गहलोत और पायलट खेमों में अब तक घमासान मचा हुआ है। शायद यह भी एक कारण है कि कांग्रेस को राजस्थान में स्टार प्रचारकों की कमी पड़ रही है, जबकि अभी कुछ दिन पहले भाजपा के लिए प्रसिद्ध कलाकार दिलीप जोशी प्रचार करने आए थे।

कुल मिलाकर राजस्थान में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए हालात कुछ खास प्रेरणादायक नहीं है। कांग्रेस के खेमे में मायूसी और निराशा का माहौल भी देखने को मिल रहा है।  पर इन आंकड़ों से ज्यादा किसी को खुश भी नहीं होना चाहिये, क्योंकि असली फैसला अब तक जनता के हाथों में है।

Comments

comments