इन दो कारणों से गुर्जर हैं सचिन पायलट से नाराज़ ?

राजस्थान में मतदान के चंद दिन शेष बचें है। और इसलिए राजनैतिक पार्टीयां अपने सारे दावं आजमा रही है।

राजस्थान कि राजनीति में जातिवाद का लंबे वक्त से बोलबाला रहा है।और कोई भी पार्टी और नेता जातीय राजनीति से दूर नहीं है।

लेकिन सूत्रों के हवाले से अंदरूनी खबर है के सचिन पायलट से गुर्जर समुदाय दों बातों को लेकर खासा नाराज है।

1.कि सचिन पायलट ने 2007 से गुर्जर आरक्षण के आगाज से लेकर आजतक कभी खुलकर गुर्जर आरक्षण कि मांग नहीं उठाई जबकि 2004 से 2014 तक केंद्र और 2008 से 2013 तक राज्य में कांग्रेस कि सरकार रही है।इस बात को लेकर गुर्जर समुदाय पायलट से खासा नाराज माना जा रहा है।

2.पायलट का मुस्लिम धर्म कि लडकी से विवाह करना समाज को अखरता है।साथ ही समुदाय कि परम्पराओं के खिलाफ उठाया गया कदम है।

वही दुसरी और गुर्जर समुदाय के लोगों का कहना है कि कोई सामान्य गुर्जर ऐसा कदम उठाता तो समाज के पंच-पटेल उसे समाज से बाहर कर देतें है।इस दोहरे चरित्र कि वजह से भी समाज में पायलट को लेकर नाराजगी है।

सियासी जानकारों का कहना है कि गुर्जर समुदाय कि नाराजगी पायलट सहित पुरी कांग्रेस पार्टी को मंहगी पड़ सकती है।

Disclaimer: The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the official policy or position of SatyaVijayi.

Comments

comments