आखिर कैसे फिरोज़ खान का पोता हो सकता है कौल ब्राह्मण ?

इन दिनों राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में चुनाव है। चुनाव में हर रोज फिजाएं बदलती है, साथ ही नेता भी अपने रंग, बयान, और दल बदलते है। माहौल के हिसाब से कांग्रेस की ओर से लगातार धर्म, जाति, मोदी के पिता और भारत माता के नारे रुकवाने जैसे अलग अलग मिजाज और अलग अलग तरीके के बयान सामने आए हैं।

इसी बीच राहुल गांधी ने अब अपने आप को कौल ब्राह्मण बताया है, गौरतलब है कि पिछले दिनों राहुल गांधी ने खुद को शिव भक्त बताया था। पिछले दिनों एक इंटरव्यू में राहुल गांधी ने किसी भी प्रकार की हिंदुत्व में विश्वास नहीं होने की बात कही थी। वही राहुल गाँधी के तरफ से कई बार कांग्रेस, मुस्लिमों की पार्टी है, ऐसे बयान भी सामने आते रहे है।

अब ऐसे में राजनैतिक इतिहासकारों का कहना है की आखिरकार सवाल यह उठता है कि फिरोज खान का पोता कौल ब्राह्मण कैसे हो सकता है। राहुल गांधी के पिता का राजीव गांधी है तो माता सोनिया गांधी, ईसाई है।

राहुल गांधी के दादा फिरोज गांधी धर्म से पारसी थे, और उन्होंने इंदिरा गांधी से विवाह किया था। अब सवाल यह उठता है कि ऐसे में राहुल गांधी किस प्रकार स्वंय के ब्राह्मण होने का दावा कर सकते हैं।

सियासी जानकारों का कहना है राहुल गांधी हिंदू वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए इस तरीके के बयान दे रहे हैं। इन दिनों कैलाश मानसरोवर जाना हो या मंदिर मंदिर जाना, राहुल गांधी हिंदू वोट बैंक को अपनी और जुटाने के लिए ऐसे प्रयास करते रहते है।

खैर बदलते वक्त में राजनीति के मायने बदले हैं,और अब राजनीति जाति धर्म से उठकर विकास के नाम पर होना ही जनहित में है।

Comments

comments