जेईई मेन फॉर्म करेक्शन – कैसे और क्या सही करें

इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए वैसे तो स्टेट लेवल पर कई परीक्षाएं होती हैं लेकिन नेशनल लेवल पर ली जाने वाली परीक्षाओं में से JEE है. जेईई मेन इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन के लिए ली जाने जाने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा यानी की ज्वाइंट एंटरेंस एग्जामिनेशन है जो सीबीएसई बोर्ड द्वारा साल में दो बार की जाती है. आज अपने इस लेख में हम आपको बताएंगे कि जेईई मेन इंजीनियरिंग परीक्षा से पहले फॉर्म करेक्शन कैसे कर सकते हैं.

जेईई मेन एप्लीकेशन फॉर्म 2020 में सुधार की प्रक्रिया शामिल की गई है जानिए क्या है वह प्रक्रिया
:

NTA ने अपर सत्र के लिए 13 फरवरी को ऑनलाइन मोड में जेईई मेन एग्जाम सुधार की सुविधा शुरू की, उम्मीदवार जेईई मेन की दूसरी पारी में दिए जाने वाले एग्जाम के लिए अपनी अपलोड की गई तस्वीर में अगर कोई दिक्कत हो तो उसको ठीक करने में अब सक्षम होंगे. अप्रैल सत्र के लिए जेईई मेन 2020 आवेदन फॉर्म में कई अन्य सुविधाओं के सुधार की भी सुविधा उपलब्ध कराई गई है. जनवरी सत्र के लिए जेईई मेन 2020 आवेदन फॉर्म में सुधार की सुविधा 3 मई तक उपलब्ध है. इस सुधार प्रक्रिया के अंतर्गत उम्मीदवार अपने पेपर में अपने व्यक्तिगत जानकारी, कैटेगरी, नाम, स्टेट ऑफ एलिजिबिलिटी, इत्यादि विवरणों को एडिट करने में सक्षम होंगे.

अप्रैल सत्र के लिए एनटीए ने जेईई मेन एप्लीकेशन फॉर्म 2020 में सुधार की प्रक्रिया 12 फरवरी को ऑनलाइन मोड में शुरू की. उम्मीदवार अप्रैल सत्र के लिए अपनी अपलोड की गई तस्वीर में किसी भी तरीके का बदलाव लाने में सक्षम होंगे. यह जेईई (मुख्य) -2020 के सभी उम्मीदवारों की सुविधा के लिए लाया गया है ऑनलाइन आवेदन फॉर्म में विवरण में सुधार के लिए एक बार फिर से बनाया गया है वेबसाइट पर परिचालन jeemain.nta.nic से 1 अप्रैल से 3 मई तक.

ऑनलाइन आवेदन प्रपत्रों में विवरणों में सुधार होगा शाम 05.00 बजे तक स्वीकार किए जाते हैं और रात्रि 11.50 बजे तक शुल्क जमा किया जाता है।
वहीं दूसरी तरफ जनवरी सत्र के लिए जेईई मेन 2020 आवेदन फॉर्म में बदलाव की सुविधा 14 से 20 अक्टूबर 2019 तक उपलब्ध थी.

आवेदन पत्र में उम्मीदवार अपने पेपर, व्यक्तिगत विवरण, कैटेगरी, नाम, स्टेट ऑफ एलिजिबिलिटी आदि जैसे विवरणों को बदल सकते हैं. हालांकि उम्मीदवारों को बदलाव करने के लिए अतिरिक्त शुल्क का भी भुगतान करना होगा.
आइए जानते हैं उम्मीदवार फॉर्म में क्या क्या बदलाव कर सकता है;
1. व्यक्तिगत विवरण जैसे अपने नाम, अपने माता पिता का नाम में की गई गलतियां सुधारी जा सकती हैं.
2. शैक्षणिक विवरण ऐसे अपने स्कूल के नाम, उत्तीर्ण करने का वर्ष, क्वालिफाइंग एग्जाम को सुधारा जा सकता है.
3. साथ ही साथ पेपर 1 से पेपर दो अन्यथा पेपर 2 से पेपर 1 मैं भी बदलाव लाया जा सकता है.
4. और यदि उम्मीदवार ने एक पेपर के लिए आवेदन किया है और वे दोनों पेपर के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो भी वे बैलेंस फीस के भुगतान से ऐसा कर सकते हैं.
5. उम्मीदवार परीक्षा केंद्र भी अपनी पसंद से बदल सकते है.
6. भाषा को अंग्रेजी से हिंदी वह गुजराती यह भी बदला जा सकता है. इसका उल्टा भी हो सकता है.
7. उम्मीदवार अपनी कैटेगरी भी बदल सकता है. सामान्य से आरक्षित में बदलते वक्त फीस वापस नहीं की जाएगी लेकिन आरक्षित से सामान्य में बदलाव करने के लिए उपयुक्त राशि का भुगतान करना होगा.

अपने जेईईमेन फॉर्म में करेक्शन कैसे करें
1. सबसे पहले आधिकारिक जेईई मुख्य वेबसाइट पर जाइए और जेई मैंस एप्लीकेशन फॉर्म सुधार लिंक पर क्लिक कीजिए.
2. इसके बाद आवेदन संख्या और पासवर्ड डालिए और आवेदन पत्र में लॉगिन करें.
3. अब आपकी फोन स्क्रीन पर आपका एप्लीकेशन फॉर्म खुलकर आएगा इसमें अच्छे से देखें अगर कोई गलती है या कोई जानकारी छूट गई है तो उसको सही करें.
4. फॉर्म जमा करने से पहले अच्छी तरह से उसको जांच लें और तभी सबमिट करें.
5. आवेदन पत्र में जेईई मुख्य सुधार के साथ शामिल.

आवश्यक फीस का भुगतान करें.
अगर आपको आपके आवेदन पत्र के फोटोग्राफ और हस्ताक्षर में सुधार करना हो तो क्या करना है

1. सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं अपलोड की गई तस्वीरों में जो गलत तस्वीर है उस पर क्लिक करें आवेदन संख्या और पासवर्ड एंटर करें और अपने आवेदन पत्र में लॉगिन करें.
2. अब आप अपनी सही छवि या सही हस्ताक्षर बदल सकते हैं इसके बाद साइन किए गए फोटोग्राफ को नाम के साथ अपलोड करिए और तस्वीर लेने की तारीख को उस पर अंकित करिए.
3. या इस बात का ध्यान रखिए कि फोटोग्राफ और हस्ताक्षर में सुधार करने की अंतिम तारीख अक्टूबर 2020 है.
फॉर्म भरते समय इस बात का ख्याल रखें कि संशोधित आवेदन पत्र को जब आप अंतिम रूप से भर रहे हो उसमें कोई भी गलती ना हो एक बार संशोधित आवेदन पत्र जमा करने के बाद किसी भी परिस्थिति में बदलाव की अनुमति नहीं दी जाती है.

जानिए जेईई मेन कौन दे सकता है
● इलेवंथ और ट्वेल्थ फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ लेकर पढ़ने वाले छात्र जेईई मेन का एग्जाम दे सकते हैं.
● क्लास ट्वेल्थ में पढ़ने वाले छात्र जेईई मेन का एग्जाम दे सकते हैं.
● ट्वेल्थ में फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ के साथ पास हो चुके छात्र भी जीमेल का एग्जाम दे सकते हैं.
जेईई मेंस एग्जाम दिया तो एडमिशन कहां मिलेगा
अगर आपने इस एग्जाम में अच्छा खोज किया है तो आपको एनआईटी आईआईटी जैसे देश के प्रतिष्ठित कॉलेज में एडमिशन मिल सकता है हालांकि अगर आपका एग्जाम में मार्क्स कम रहा हो तो आपको दूसरे इंजीनियरिंग कॉलेज में आराम से एडमिशन मिल सकता है मतलब साफ है जितना अच्छा एग्जाम रिजल्ट उतने अच्छा कॉलेज.

कैसे होता है जेईई मेन का पेपर
जेईई मेंस एग्जाम ऑनलाइन होती है इस एग्जाम में कुल 75 प्रश्न होते हैं जिनमें फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ के 25 25 क्वेश्चन पूछे जाते हैं पेपर कुल 300 अंकों का होता है सभी क्वेश्चन ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं यानी कि एक क्वेश्चन के चार जवाब होते हैं जिनमें से आपको एक सही जवाब चुनना होता है प्रत्येक गलत आंसर का एक चौथाई मार्क्स काटा जाता है यानी कि इस एग्जाम में नेगेटिव मार्किंग भी होती है.

एक छात्र जेईईमेन कितनी बार दे सकता है
जब आप ट्वेल्थ में पढ़ रहे होते हैं तब से लेकर अगले 3 सालों तक आप जेईई मेन का एग्जाम दे सकते हैं हर साल में जेईई मेन के दो एग्जाम होते हैं यानी कि आप कुल मिलाकर 6 बार जेईई मेंस एग्जाम दे सकते हैं.

Comments

comments