किसान सम्मान निधि योजना से किनारा कर राजस्थान की गहलोत सरकार ने दिया किसानो को धोखा

पिछले साल कांग्रेस ने राजस्थान में किसानों के मुद्दे को हतीयार बनाके सत्ता पे कब्जा किया था। पर एक बार अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ऐसा लग रहा है जैसे कांग्रेस किसानो को भुल ही गई है। हद तो तब हो गई जब सब कुछ जानते समझते हुए भी राजस्थान के गहलोत सरकार ने प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से वंचित रखा।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अंतर्गत छोटे और सीमांत किसानों को ६००० रुपये की मदद हर साल की जाएगी। पर राजस्थान सरकार ने इस योजना से पुरी तरह हाथ धो लिया है।

इस योजना के तहत अब तक 2.74 करोड़ छोटे और सीमांत किसानों को पीएम- किसान योजना के तहत दो हजार रुपए की पहली किस्त मिल चुकी है। इस योजना का लाभ पाने वाले 30 फीसदी किसान बीजेपी शासित उत्तर प्रदेश के हैं, जहां प्रधानमंत्री ने इस योजना को 24 फरवरी को लॉन्च किया था।

राजस्थान सरकार ने 124,000 किसानों की एक लिस्ट भेजी है, जिसकी जांच हो रही है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राजस्थान के कुछ हजार किसानों को फंड ट्रांसफर के लिए मान्यता दे दी गई है, लेकिन सरकार ने अभी तक फंड ट्रांसफर रिक्वेस्ट पर साइन नहीं किया है।

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस ने इस स्कीम को खारिज कर दिया है। पंजाब एक मात्र कांग्रेस शासित प्रदेश है, जिसने पीएम किसान योजना में आगे बढ़कर हिस्सा लिया है। एक अधिकारी के मुताबिक पंजाब के लगभग 10 लाख किसानों को इस योजना के तहत पहली किस्त दे दी गई है।

Comments

comments