कहीं राजस्थान चुनावों में हार का कारण ना बन जाए कांग्रेसी नेता सीपी जोशी का जाति पर विवादित बयान

राजस्थान में चुनावी कसमकश जोरों पर है, हर पार्टी अपने अपने जीत के दांव आजमा रही है।लेकिन इन ही दांव खेलने के चक्कर में कांग्रेस का हर दांव उल्टा लगता नजर आ रहा है।

कांग्रेस पार्टी पर यह राजस्थानी भाषा कि पंक्तियाँ सटीक बैठती है कि
“काणी रा ब्याह म कौतक ही कौतक” मतलब यही कि एक आँख से अँन्धी दुल्हन को परेशानी पर परेशानी होती है।

लिहाजा कांग्रेस कि लगातार बढती मुश्किलें बंद कमरे से चौहराऐ तक पँहुची गुट बाजी कि बात हो,टिकट बाँटने में देरी हो, पार्टी में भारी बगावत कि बात हो,कल्ला का भारत माता का नारा रुकवा कर सोनिया गाँधी का नारा लगवाने पर कांग्रेस कि किरकिरी हो।

इसी कड़ी में राजस्थान में राजस्थान कांग्रेस के दिग्गज नेता सीपी जोशी का जन भावनाओं को ठेस पँहुचाने वाला बयान सामने आया है।

जोशी के इस बयान पर नसीहत के रूप में यह पंक्तियाँ सटीक बैठती है कि
“जाति न पूछो साधु कि पूछ लीजिए ज्ञान,
मोल करो तलवार का पड़ी रहने दो म्यान।।
भावार्थ यही है की किसी साधु की जाति मत पूछो उसका ज्ञान पूछो उससे ज्ञान लो उसकी योग्यता का सम्मान करो तलवार की कीमत पूछो म्यान को पड़ा रहने दो।

दरअसल सीपी जोशी के इस बयान का वीडियों तेजी से वायरल हो रहा है, इस वीडियो में सीपी जोशी बीजेपी कि दिग्गज नेत्री और मंत्री उमा भारती कि जाती पूछते नजर आ रहे है।

जोशी ने साथ ही अन्य कई संतों के साथ प्रधानमंत्री मोदी कि भी जाति पूछ रहे है,लिहाजा इस बयान में जोशी यह कहना चाहते है कि हिन्दू धर्म,अपनाने और धर्म पर बोलने का अधिकार केवल ब्राह्मणों का है।बाकी अन्य हिन्दू जातियों का नहीं।

सियासी जानकारों का मानना है कि जोशी के इस वीडियो से कांग्रेस से एसटी,एसी और ओबीसी वोट छिटक सकते है।

इसलिए राहुल गाँधी सहित पुरी कांग्रेस ने इस बयान से पल्ला झाड़ लिया है, और जोशी का नीजि बयान बताया है।

वही दुसरी और बीजेपी का कहना है कि, कांग्रेस विकास के बजाय देश को बाँटने कि राजनीति कर रही है।

Disclaimer: The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the official policy or position of SatyaVijayi.

Comments

comments