एक सच्चा हिंदुस्तानी भाजपा को क्यों वोट दे, जानने के लिए पढ़े ये शानदार लेख

देश की राजनीतिक व्यवस्था की बात करें तो विभिन्न राजनितिक दल हमारे यहां विद्यमान हैं,किन्तु इन दलों का लक्ष्य और उद्देश्य क्या है ? यदि इस विषय पर विचार करते हैं तो राष्ट्रहित के लिए काम करने वाले राजनीतिक दल उंगलियों पर गिने जा सकते हैं | हमारे यहां विभिन्न प्रकार के दल हैं जिनमे अधिकाँश दल पारिवारिक दल कहे जा सकते हैं जो जाति, समाज , वर्ग का विषय लेकर आगे बढ़ते हैं | देश मैं कुछ ऐसे भी दल हैं जो केवल राष्ट्रहित के लिए राजनीतिक व्यवस्था मैं हैं| उनमे से भारतीय जनता पार्टी का नाम शीर्ष पर आता है जिसने आज तक सिर्फ राष्ट्रहित मैं ही कई बड़े फैसले लिए हैं |भारतीय जनता पार्टी की रीति नीति और कार्य पद्धति समझनी है तो उसके इतिहास को जानना आवश्यक है |

भारतीय राजनीती मैं स्वतंत्रता के पश्चात कांग्रेस पार्टी जिस तरीके से काम कर रही थी उससे एक बहुत बड़े वर्ग मैं असंतोष उत्पन्न हुआ | राष्ट्रवादी विषयों के बारे मैं कांग्रेस पार्टी द्वारा के जा रही उपेक्षा ने उन परिस्थितियों मैं आग में घी डालने का काम किया | डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने देश की राजनीतिक परिस्थितियों को एक नयी दिशा देने का संकल्प किया | उस संकल्प के परिणाम स्वरुप जनसंघ की स्थापना हुई | राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वैचारिक प्रतिबद्धता को आधार बनाकर जनसंघ ने अपना विस्तार करना प्रारम्भ किया| जनसंघ से भाजपा की यात्रा के दौरान डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी और प. दीन दयाल उपाध्याय का बलिदान भी हुआ | एक देश , एक विधान और एक निशान के मुद्दे पर मुखर्जी ने पुरे देश को मुखर कर दिया |

जो कश्मीर समस्या आज भारत के लिए नासूर बनी हुई है उसके मूल में जायेंगे तो पता चलेगा की उस समय राष्ट्रवादी शक्तियों के कमज़ोर होने का खामियाज़ा इस राष्ट्र को भुगतना पड़ा| उसी समय से जनसंघ ने राष्ट्रवादी विषयों पर मुखरता से बोलना शुरू किया तथा उस परंपरा को वर्तमान दौर मैं भारतीय जनता पार्टी बखूबी निभा रही है |अनेक बार भाजपा के उत्साहित समर्थकों द्वारा सुनने को मिलता है की “उपवन से जो घात करे वो शाख तोड़ दी जाएगी,मातृभूमि की ओर उठी हर आँख फोड़ दी जाएगी”| कुल मिलाकर कहा जा सकता है की राजनीतिक क्षेत्र मैं राष्ट्रहित का पर्याय भारतीय जनता पार्टी ही है | कांग्रेस पार्टी पारिवारिक पार्टी बन चुकी है |भाजपा के लिए माँ भारती की वंदना प्राथमिकता है तो कांग्रेस के लिए नकली गांधी परिवार की वंदना प्राथमिकता है | इसके अनेक उदाहरण भी मिल जायेंगे |अभी हाल ही मैं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बी. डी. कल्ला के वायरल विडिओ से भी यह स्पष्ट हो चुका है | भाजपा कांग्रेस के आलावा कम्युनिस्ट दलों की चर्चा करें तो निरंतर अपना आधार और जनता में विश्वास खोते जा रहे हैं | इसके मूल में कम्युनिस्टदलों की विदेशी श्रद्धा है |

नक्सलवादियों को खिलौना बनाकर काम कर रहे कम्युनिस्टों की असलियत जनता समझ चुकी है | समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी,नेशनल कॉन्फ्रेंस ,पीडीपी ,इनेलो ,डीएमके सहित अनेक क्षेत्रीय दल कभी भी राष्ट्रहित के विषय मैं सोच ही नहीं पाते | वे अपने परिवार ओर क्षेत्रों के दायरे में बंधे रहते हैं| इसलिए यह तो स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है की देश की राजनीति को राष्ट्र हित में मोड़ने और जोड़ने का काम केवल और केवल भारतीय जनता पार्टी ही कर सकती है|

Disclaimer: The views and opinions expressed in this article are those of the authors and do not necessarily reflect the official policy or position of SatyaVijayi.

Comments

comments