परिवारवाद के बहाने सचिन पायलट ने साधा अशोक गहलोत के बेटे वैभव पर निशाना?

लोकसभा के चुनाव शुरू हो चुके हैं और कुछ ही दिनों में यह साफ हो जाएगा कि अगले पांच सालों के लिए देश की बागडोर किसके हाथों में जाएगी। पर ऐसे निर्णायक समय में भी कांग्रेस का खेमा कई जगहों पर बंटा हुआ नजर आ रहा है। ऐसा ही एक जगह है राजस्थान।

दरअसल, हाल ही में राजस्थान कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट ने एक ऐसा बयान दिया है जो कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके बेटे वैभव गहलोत के खिलाफ माना जा रहा है। सचिन ने पत्नी सारा पायलट के अजमेर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर सारी अटकलों को खारिज करते हुए कहा था कि उनके परिवार से कोई भी चुनाव नहीं लड़ेगा। इसके बाद यह कयास अब लगाए जा रहे हैं कि कहीं यह अशोक गहलोत पर एक कटाक्ष तो नहीं था, क्योंकि गहलोत के बेटे वैभव जोधपुर से प्रत्याशी बनाए गए हैं।

राजनीति में हर बयान के अलग अलग मतलब होते हैं। राजस्थान में कांग्रेस सरकार बनने के बाद से ही गहलोत और पायलट की अदावत खुले तौर पर तो सामने नहीं आ रही थी। लेकिन, सूबे के दोनों मुखिया एक साथ कई कार्यक्रमों से नदारत जरूर थे। अब डेढ महीने बाद पायलट ने इस बयान के जरिये खुले तौर पर गहलोत खेमे सहित वैभव को चुनौती दी है। पायलट का ये बयान भले ही परिवारवाद के खिलाफ जरूर है लेकिन, उनका सीधा टारगेट सिर्फ गहलोत ही है।

इससे पहले भी राजस्थान विधानसभा चुनावों के समय भी दोनों नेताओं के मतभेद बार बार सामने आते रहे हैं। गौरतलब है कि राजस्थान में एक बडा़ तबका गहलोत के स्थान पर पायलट को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहता था।

Comments

comments