मॉब लिंचिंग-‘अफवाह ने भीड़ को बनाया हिंसक, गूगल इंजीनियर की पीट-पीट कर हत्या’

मॉब लिंचिंग की विभत्स घटनाएं अब सामान्य होने लगी है। इंसान इतने निर्दयी हो गए हैं कि शक के आरोप में लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी जाती है।

ताजा मामला कर्नाटक से है, बीदर जिले में बच्चा चोरी के शक में चार युवकों पर भीड़ ने हमला कर दिया और उनकी बेरहमी से पिटाई कर दी। एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हैं। मरने वाला युवक मोहम्मद आजम अहमद गूगल में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था। चारों युवकों में एक कतर का नागरिक भी शामिल था। तीनों घायलों को प्राथमिक इलाज के बाद हैदराबाद शिफ्ट कर दिया गया है।

यह मामला बीदर जिले के औराद थाना क्षेत्र का है. औराद थाना पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि कुछ युवकों ने चारों युवकों की तस्वीर को व्हाट्सएप पर वायरल कर दिया। व्हाट्सएप मैसेज में कहा गया कि ये चारों युवक बच्चा चोर गिरोह से संबंध रखते हैं।

पुलिस ने मामले में व्हाट्सएप ग्रुप के तीन एडमिन को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा 30 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है जो हमलावर भीड़ का हिस्सा थे।

पुलिस के मुताबिक, चारों युवक एक सामाजिक कार्यक्रम में शामिल होने हैदराबाद से बीदर पहुंचे थे। वापस लौटने के दौरान वे एक स्कूल के पास रुके और उस जमीन को देखने जा रहे थे, जिस जमीन को वे खरीदना चाहते थे।

चारों युवक चाय पीने के लिए औराद तालुका के मुरकी गांव में एक स्कूल के पास रुके थे। स्कूल से निकलने वाले बच्चों को कतर का नागरिक सलहाम ने विदेशी चॉकलेट दी।

बच्चों को चॉकलेट देने पर अफवाह उड़ा दी गई कि चॉकलेट देकर बच्चों को बहलाया-फुसलाया जा रहा है। देखते-देखते लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई और चारों तरफ से मारो-मारो की आवाज उठने लगी। जान का खतरा भांपकर चारों युवक दौड़ कर अपनी इनोवा कार की तरफ भागे।

हालांकि, तब तक कुछ लोगों ने इनकी तस्वीर ले ली थी। चारों युवकों के फोटो को व्हाट्सएप पर वायरल कर दिया गया और कहा गया कि चारों युवक बच्चा चोरी करने वाले गैंग से हैं और इन्हें हर हाल में रोकना है।

वे लोग कुछ देर तक गाड़ी से भागते रहे। अगला गांव पहुंचने पर सड़क पर पेड़ गिराकर भीड़ ने गाड़ी रोक दी और चारों युवकों को गाड़ी से निकालकर बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उसी गांव के कुछ लोगों ने पुलिस को इस घटना की सूचना दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। लेकिन, दो पुलिसकर्मी भीड़ को रोकने में नाकाम रहे। चारों युवकों पर पत्थर और डंडों से हमला किया गया।

गलतफहमी में मॉब लिंचिंग की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी महाराष्ट्र, असम और त्रिपुरा में बच्चा चोर के शक में भीड़ ने कई लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी है। गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में बच्चा चोर गैंग के सक्रिय होने की सोशल मीडिया पर अफवाह फैली हुई है।

Comments

comments